कृषि शिक्षा एवं अनुसंधान को नया आयाम देते हुए कृषि विभाग से अलग कर एक विभाग के रुप में शासन स्तर पर स्थापना की गई है। पूर्व में कृषि शिक्षा एवं अनुसंधान विभाग कृषि विभाग के अन्तर्गत कृषि अनुभाग-8 के रुप में कार्यरत था। वर्तमान में कृषि शिक्षा एवं अनुसंधान विभाग प्रदेश में स्थापित 04 कृषि विश्वविद्यालयों, 01 डीम्ड कृषि विश्वविद्यालय तथा उत्तर प्रदेश कृषि अनुसंधान परिषद के माध्यम से कृषि शिक्षा एवं अनुसंधान संबंधी क्रियाकलापों को गति प्रदान करने में प्रयासरत है। -

कृषि शिक्षा एवं अनुसंधान विभाग का मूल उद्देश्य प्रदेश में कृषि शिक्षा के सुदृढ़ीकरण द्वारा ग्रामीण युवाओं को रोजगार के नवीन अवसर उपलब्ध कराना तथा प्रदेश की कृषि प्राथमिकताओं एवं समस्याओं के परिप्रेक्ष्य में कृषि अनुसंधान के माध्यम से प्रदेश की कृषि विकास दर में वृद्धि तथा कृषि की नवीनतम तकनीकों का प्रचार-प्रसार के माध्यम से कृषकों की आजीविका में सुधार किया जाना है। -

शासन स्तर पर कृषि शिक्षा एवं अनुसंधान विभाग प्रमुख सचिव के अधीन कार्यरत है। प्रमुख सचिव के अधीन सचिव, विशेष सचिव, संयुक्त सचिव तथा अनुभाग अधिकारी शासन स्तर पर कृषि शिक्षा एवं अनुसंधान विभाग के कार्यों का सम्पादन करते हैं। वर्तमान में इस विभाग के प्रमुख सचिव श्री अमित मोहन प्रसाद आई.ए.एस. हैं। इसके अतिरिक्त विभाग में एक सचिव, एक विशेष सचिव, एक संयुक्त सचिव, एक अनुभाग अधिकारी, तीन समीक्षा अधिकारी तथा एक सहायक समीक्षा अधिकारी और एक अनु सेवक कार्यरत हैं। श्री विनोद कुमार उर्फ पण्डित सिंह जी कृषि शिक्षा एवं अनुसंधान विभाग के माननीय मंत्री हैं। -

 

Site is designed & hosted by National Informatics Centre. Site contents are owned  & updated by respective department.
NIC does not take any responsibility regarding website contents
.
National Informatic Centre, Ministry of Communication and Information Technology, Govt of India